आज का विचार

Filter By   Reset
 
« Previous123456789...1213Next »
DATE HINDI QUOTE
27-05-2017 प्रेम सबसे करो, भरोसा कुछ पर करो और नफरत किसी से न करो - ईसा मसीह
26-05-2017 प्रकृति अपरिमित ज्ञान का भंडार है, परंतु उससे लाभ उठाने के लिए अनुभव आवश्यक है। - हरिऔध
25-05-2017 प्रकृति अपरिमित ज्ञान का भंडार है, पत्ते-पत्ते में शिक्षापूर्ण पाठ हैं, परंतु उससे लाभ उठाने के लिए अनुभव आवश्यक है। - हरिऔध
24-05-2017 प्यार से हमेशा कोसों दूर रहने से अच्छा है, प्यार करके तबाह हो जाना - सेंट ऑगस्टीन
23-05-2017 प्यार की छुअन से हर कोई कवि बन जाता है - प्लेटो
22-05-2017 पुरुषों का प्रेम आंखों से और महिलाओं का प्रेम कानों से शुरू होता है - अज्ञात
21-05-2017 पहले हर अच्छी बात का मज़ाक बनता है, फिर विरोध होता है और फिर उसे स्वीकार लिया जाता हैं । - स्वामी विवेकानन्द
20-05-2017 पसीने की स्याही से जो अपना मुकद्दर लिखते हे, उनके इतिहास के पन्ने कभी कोरे नही होते!
19-05-2017 पवित्रता, धैर्य तथा प्रयत्न के द्वारा सारी बाधाएँ दूर हो जाती हैं। इसमें कोई सन्देह नहीं कि सभी महान कार्य धीरे धीरे होते हैं ! - स्वामी विवेकानन्द
18-05-2017 18. पत्थर में ईश्वर के दर्शन करना काव्य का काम है। इसके लिए व्यापक प्रेम की आवश्यकता है। ज्ञानेश्वर महाराज भैंसे की आवाज़ में भी वेद श्रवण कर सके, इसलिए वह कवि हैं। - आचार्य विनोबा भावे
17-05-2017 निरहंकारिता से सेवा की कीमत बढ़ती है और अहंकार से घटती है। - आचार्य विनोबा भावे
16-05-2017 नियम के बिना और अभिमान के साथ किया गया तप व्यर्थ ही होता है। - वेदव्यास
15-05-2017 धर्म का कार्य मनुष्य के हृदय को विशाल बनाना है। - आचार्य विनोबा भावे
14-05-2017 धन उत्तम कर्मों से उत्पन्न होता है, प्रगल्भता (साहस, योग्यता व दृढ़ निश्चय) से बढ़ता है, चतुराई से फलता फूलता है और संयम से सुरक्षित होता है। - विदुर
13-05-2017 द्वेष बुद्धि को हम द्वेष से नहीं मिटा सकते, प्रेम की शक्ति ही उसे मिटा सकती है। - आचार्य विनोबा भावे
12-05-2017 दो धर्मो का कभी झगड़ा नहीं होता, सब धर्मो का अधर्म से ही झगड़ा होता है। - आचार्य विनोबा भावे
11-05-2017 दूसरों पर किए गए व्यंग्य पर हम हँसते हैं पर अपने ऊपर किए गए व्यंग्य पर रोना तक भूल जाते हैं। - रामचंद्र शुक्ल
10-05-2017 दुख और वेदना के अथाह सागर वाले इस संसार में प्रेम की अत्यधिक आवश्यकता है। - डॉ. रामकुमार वर्मा
09-05-2017 डूबते को तारना ही अच्छे इंसान का कर्तव्य होता है। - अज्ञात
08-05-2017 डर रखने से हम अपनी ज़िंदगी को बढ़ा तो नहीं सकते। डर रखने से बस इतना होता है कि हम ईश्वर को भूल जाते हैं, इंसानियत को भूल जाते हैं। - आचार्य विनोबा भावे
07-05-2017 ज्ञानी जन विवेक से सीखते हैं, साधारण मनुष्य अनुभव से, अज्ञानी पुरुष आवश्यकता से और पशु स्वभाव से। - कौटिल्य
06-05-2017 जो सेवा भावी है, उसे सेवा खोजने या पूछने की जरूरत नहीं होती। जरूरत पहचान कर वह स्वयं को वहां प्रस्तुत कर देता है। - आचार्य विनोबा भावे
05-05-2017 जो पुरुषार्थ नहीं करते उन्हें धन, मित्र, ऐश्वर्य, सुख, स्वास्थ्य, शांति और संतोष प्राप्त नहीं होते। - वेदव्यास
04-05-2017 जो नेक काम करता है और नाम की इच्छा नहीं रखता, उसकी चित्त शुद्धि होती है और उसका काम सहज ही परमात्मा को अर्पित हो जाता है। - आचार्य विनोबा भावे
03-05-2017 जो काम घड़ों जल से नहीं होता उसे दवा के दो घूँट कर देते हैं और जो काम तलवार से नहीं होता वह काँटा कर देता है। - सुदर्शन
02-05-2017 जैसे सूर्योदय के होते ही अंधकार दूर हो जाता है वैसे ही मन की प्रसन्नता से सारी बाधाएँ शांत हो जाती हैं। - अमृतलाल नागर
01-05-2017 जैसे उल्लू को सूर्य नहीं दिखाई देता वैसे ही दुष्ट को सौजन्य दिखाई नहीं देता। - स्वामी भजनानंद
25-04-2017 जीवन में ज्यादा रिश्ते होना ज़रुरी नहीं है, पर जो रिश्ते है उनमें जीवन होना ज़रुरी हैं । - स्वामी विवेकानन्द
24-04-2017 जिसने ज्ञान को आचरण मे उतार लिया, उसने ईश्वर को ही मूर्तिमान कर लिया। - आचार्य विनोबा भावे
23-04-2017 जिसने अकेले रह कर अकेलेपन को जीता उसने सबकुछ जीता। - अज्ञात
22-04-2017 जिस मनुष्य में आत्मविश्वास नहीं है वह शक्तिमान हो कर भी कायर है और पंडित होकर भी मूर्ख है। - राम प्रताप त्रिपाठी