महिला शिकायत निवारण समिति (डब्ल्यूजीआरसी)

आंतरिक शिकायत समिति (आईसीसी)

“जहां चित्‍त भय से शून्‍य हो और जहां हम गर्व से सिर ऊंचा कर चल सकें” – रविंद्रनाथ टैगोर

डब्ल्यूजीआरसी:  भा.प्रौ.सं. भुवनेश्‍वर अपनी सभी महिला स्टाफ, छात्रों एवं संकायों को स्वस्थ कार्यस्थल वातावरण को बढ़ावा देने के लिए एक समिति का गठन किया है। 
कार्यस्थल में महिला के साथ यौन उत्पीड़न (रोकथाम, निषेध एवं निवारण) के अधिनियम 2013 (2013 का 14) की धारा 
4 (I)एवं कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग, भारत सरकार के दिनांक 21.07.2009 के कार्यालय ज्ञापन सं एफ.सं.11013/3/2009-स्था (क) के अनुसार, भा.प्रौ.सं. भुवनेश्‍वर ने उत्पीड़न संबंधी मामलों की जाँच करने के लिए आंतरिक शिकायत समिति का गठन किया है।

डॉ. सीमा बाहिनीपति, सहायक प्राध्यापक, एसबीएस

-

अध्यक्षा

डॉ. प्रवास रंजन साहू, सह प्राध्यापक, एसईएस

-

सदस्य

डॉ. अस्मिता शुक्ला, सहायक प्राध्यापक, एचएसएसएवंएम

-

सदस्य

डॉ. देबलीना घोष, सहायक प्राध्यापक, एसईएस

-

सदस्य

श्रीमती विनिता पटनायक, परामर्शदात्री (मनोवैज्ञानिक)

-

सदस्य

श्रीमती सुजाता जेना, अभिवक्‍ता, ओड़िशा हाई कोर्ट, कटक

-

सदस्य

श्री देबराज रथ, उपकुलसचिव 

-

सदस्य-सचिव

डब्ल्यूजीआरसी से सहायता की माँग कौन-कौन कर सकता है ? 
भा.प्रौ.सं. भुवनेश्‍वर की कोई भी महिला कर्मचारी (संकाय, छात्र अथवा स्टाफ) 
यौन उत्पीड़न की परिभाषा :  
“यौन उत्पीड़न” में शामिल है अनिष्ट यौन निर्धारित व्यवहार, चाहे प्रत्यक्ष या अन्य रूप से जैसे :

  • शारीरिक संपर्क और उससे आगे बढ़ना
  • यौन समर्थन हेतु मांग या अनुरोध
  • यौन रंचित अभ्युक्‍ति
  • अश्‍लील चित्र को दिखाना, या
  • अन्य कोई अनिष्ट शारीरिक, मौखिक या गैर मौखिक यौन प्रकृति का आचरण

प्रतिवादी के विरुद्ध कौन-कौन सी संभव कार्रवाई की जा सकती है ?

  • चेतावनी
  • लिखित क्षमा
  • अच्छे व्यवहार के लिए बांड
  • गोपनीय रिपोर्ट में प्रतिकूल टिप्पणी
  • वेतनवृद्धि/पदोन्नति को रोकना
  • निलंबन
  • बर्खास्तगी 
  • अन्य कोई प्रासंगिक तंत्रावली

अगर आपको परेशान किया गया है तो, आप क्या करेगें?
आसन्न पर्यवेक्षक या प्राधिकारी के किसी भी व्यक्‍ति को सूचित करें। अगर शिकायत पर्यवेक्षक या डब्ल्यूजीआरसी-आईसीसी के विरूद्ध है तो -

  • आप डब्ल्यूजीआरसी से व्यक्‍तिगत रूप से या कॉल करके या शिकायत दर्ज (हस्तलिखित, टाइप और हस्ताक्षर किया हुआ, ईमेल) करके मिल सकते हैं।
  • आप chairperson.wgrc@iitbbs.ac.in को सीधे मेल कर सकते है।
  • आप अध्यक्षा से या किसी अन्य सदस्य से सीधे मिल सकते है।

निश्‍चिंत रहे आपकी शिकायत को पूरी तरह से गोपनीय रखा जाएगा। 
शिकायत पर जाँच :

  • शिकायत दर्ज होने की तिथि के नब्बे दिन के भीतर जाँच प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी।.
  • जाँच प्रक्रिया पूरी कर लेने के उपरांत, आंतरिक समिति, जाँच प्रक्रिया पूर्ण हो जाने की तिथि के दस दिन के भीतर मामले से संबंधित रिपोर्ट को नियोक्‍ता को सौपेंगी और वही रिपोर्ट संबंधित पार्टियों को भी सौंपी जाएगी।     
  • यदि, प्रतिवादी के विरुद्ध आरोप साबित हो जाते है तो, प्रतिवादी के विरुद्ध नियोक्‍ता द्वारा दंडात्मक कार्रवाई करने हेतु सिफारिश की जाएगी।
  • नियोक्‍ता को उनके द्वारा दी गई पावती के साठ दिनों के भीतर सिफारिशों पर कार्रवाई करनी होगी।

उपयोगी पठन सामग्री

डब्ल्यूजीआरसी द्वारा आयोजित कार्यक्रम:

  • 11-04-2014: कार्यशाला विषय "इंस्पायरिंग चेंज इन (वो) मेन"
  • 07-03-2014:  08 मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस का अनुपालन
  • 04-10-2013:  महिलाओं के विरुद्ध हिंसा को समाप्त करने पर कार्यशाला
  • 12-04-2013:  महिला पर अपराध की रोकथाम पर जागरुक कार्यक्रम
  • 08-03-2013:  अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस का अनुपालन